वाराणसी। सावन में काशी आने वाले शिवभक्तों की काशीपुराधिपति के दर तक पहुंचने की राह सुगम होगी। सड़क के जाम से निजात के लिए प्रशासन नमोघाट और अस्सी घाट के बीच चार जुलाई से वाटर टैक्सी का संचालन शुरू कर रहा है। इसके लिए चार रूटों का चयन कर किराया तय कर दिया गया है। यह वाटर टैक्सी एक फेरे में 86 श्रद्धालुओं को गंगा के रास्ते गंतव्य तक पहुंचाएगी। पूरे दिन में दो वाटर टैक्सी 10 फेरे पूरे करेगी।

गुजरात के भावनगर से मंगाई गई 10 वाटर टैक्सी में दो को गंगा में संचालन के लिए तैयार किया जा रहा है। नगर निगम ने अस्सी से नमो घाट, हरिश्चंद्र घाट से मणिकर्णिका घाट और काशी विश्वनाथ कॉरिडोर से अस्सी घाट और नमो घाट तक चार रूट तय किए गए हैं। सावन के बाद भी इन वाटर टैक्सियों का नियमित संचालन इन रूटों पर किया जाएगा। जलमार्ग प्राधिकरण ने भावनगर से मंगाई गई 10 वाटर टैक्सी वाराणसी जिला प्रशासन को दी थी। इसमें वाटर एंबुलेंस और शव वाहिनी के रूप में जलयानों को आरक्षित किया गया है।

वाटर टैक्सी के संचालन के साथ ही इनकी समयसारिणी को सिटी बसों से जोड़ा जाएगा। नमो घाट तक चलाई जाने वाली सिटी बस के समय के हिसाब से ही इस घाट से वाटर टैक्सी काशी विश्वनाथ धाम के लिए रवाना होगी। ऐसे ही अस्सी घाट की वाटर टैक्सी को अस्सी इलाके से गुजरने वाली सिटी बस से जोड़ा जाएगा।

वाटर टैक्सी का किराया :

अस्सी घाट से नमो घाट

345

हरिश्चंद्र घाट से मणिकर्णिका घाट

125

काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर से अस्सी घाट

175

काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर से नमो घाट

175

(नोट- किराया प्रति व्यक्ति)

एक बार में वाटर टैक्सी में 86 यात्री सवार होंगे।

शिवभक्त सीधे गंगा के रास्ते करेंगे काशी विश्वनाथ धाम में

गंगा द्वार से प्रवेश करेंगें। इसके लिए वाटर टैक्सी के संचालन की तैयारी पूरी कराई जा रही है। रूट और किराया तय कर लिया गया है। सावन की शुरुआत के साथ ही वाटर टैक्सी संचालित कर दी जाएगी।

Vipin Singh

Vipin Singh

Next Story