बीएचयू अस्पताल में हेल्थ डायरी से इलाज कराने के नाम पर बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। मूल हेल्थ डायरी की क्लोन कॉपी बनवाकर उस पर जांच और इलाज भी कराया जा रहा है। इस तरह की डायरी से बीएचयू के अधिकारी, शिक्षक और विद्यार्थी इलाज कराते हैं। अब तक 12 से ज्यादा क्लोन कॉपी प्रॉक्टोरियल बोर्ड पकड़ चुका है। अब सभी विभागों को अलर्ट किया गया है। कहा गया है कि हर हेल्थ डायरी की जांच की जाए, फिर इलाज की प्रक्रिया आगे बढ़ाई जाए।

असली और नकली हेल्थ डायरी में कई अंतर सामने आ रहे हैं। फर्जी डायरी में छात्र का ब्लड ग्रुप नहीं लिखा है। साथ ही सीएमओ इंचार्ज का नाम और हस्ताक्षर भी किनारे फोल्डिंग वाली जगह पर है। फर्जी डायरी का पेज फोटोकॉपी के पेपर जैसा लग रहा है, जबकि असली डायरी में कॉपी, किताब वाला पेज लगा है। फर्जी डायरी में पेन से ऊपर ही एमआरडी नंबर लिखा गया जबकि असली वालें में यह जानकारी अंदर होती है।

अस्पताल में पिछले दो-तीन महीनों से करीब 100 से अधिक एक्सपायरी हेल्थ डायरी पकड़ी जा चुकी है। अब हेल्थ डायरी की क्लोन कॉपी का कुछ लोग प्रयोग कर रहे हैं। इस तरह की कई डायरी भी पकड़ी गई है। ओपीडी, इमरजेंसी में छापे की कार्रवाई चलती रहेगी।

Rishika Kukrety

Rishika Kukrety

Next Story