वाराणसी। ज्ञानवापी के ASI सर्वे के दौरान प्रशासन के ओर से सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम किए गए हैं। काशी विश्वनाथ धाम समेत पूरे ज्ञानवापी परिसर में कड़ी निगरानी की जा रही है। पूरे शहर को हाई अलर्ट पर रखा गया है। सुरक्षा व्यवस्था ऐसी कि परिंदा भी पर ना मार पाए। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस कमिश्नर अशोक मुथा जैन ने गुरुवार को ही 3 घंटे में इसका खाका खींचा था। सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर विश्वनाथ मंदिर परिसर में 4 दिनों के लिए मोबाइल पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

एएसआई सर्वे के दौरान ज्ञानवापी परिसर के बाहर और आस-पास के क्षेत्र की सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी दो आईपीएस अधिकारियों के जिम्मे है। उनके नेतृत्व में सुरक्षा व्यवस्था में दो एडिशनल एसपी, चार सीओ, 250 इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर, हेड कांस्टेबल व कांस्टेबल, दो कंपनी पीएसी व एक कंपनी आरएएफ के जवानों को तैनात किया गया है। सर्वे के दौरान श्री काशी विश्वनाथ धाम का गेट नंबर-चार पहले की तरह बंद कर दिया गया है। इसी द्वार से होकर ज्ञानवापी परिसर तक जाया जाता है। सुरक्षा के मद्देनजर इस गेट को बंद कर दिया गया है।


ज्ञानवापी परिसर की आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था की कमान सीआरपीएफ के जवानों के जिम्मे रहती है। पुलिस और पीएसी के जवान परिसर के बाहरी हिस्से में रहते हैं। स्थानीय अभिसूचना इकाई (एलआईयू) को भी सजगता के साथ शहर के माहौल की टोह लेते रहने के निर्देश कमिश्नरेट के उच्चाधिकारियों ने दिए हैं।

वाराणसी के कमिश्नर अशोक मुथा जैन ने कमिश्नरेट के सभी एसीपी और थानेदारों को भी अतिरिक्त सतर्कता बरतते हुए ड्यूटी करने के निर्देश दिए गए हैं। सभी एसीपी और थानेदार अपने क्षेत्र के संभ्रांत लोगों से संवाद कर रहे हैं। पैदल गश्त भी की जा रही है। कमिश्नर ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि कोई भी छोटी-बड़ी सूचना पर एसीपी और थानेदार मौके पर जरूर जाएं।

सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाया तो होगी कार्रवाई

पुलिस आयुक्त मुथा अशोक जैन ने कहा है कि सोशल मीडिया की निगरानी की जाएगी। इसमें किसी तरह हीलाहवाली बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सोशल मीडिया पर कोई अफवाह फैलाए तो तत्काल उसका खंडन कर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाए। अतिरिक्त सतर्कता के साथ ड्यूटी करने की जरूरत है। सोशल मीडिया पर वाराणसी पुलिस गिद्ध की नजर रख रही है।


संवेदनशील इलाकों में पुलिस-पीएसी तैनात

कमिश्नरेट के एसीपी और थानेदारों ने बृहस्पतिवार को संभ्रांत लोगों के साथ बैठक करके शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने में सक्रिय सहयोग की अपील की है। साथ ही जिले के मिश्रित आबादी वाले संवेदनशील इलाकों में फोर्स तैनात की है। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद कमिश्नरेट के सभी एसीपी और थानेदारों ने फोर्स के साथ अपने-अपने क्षेत्र में पैदल गश्त किया।

जनता किसी अफवाह में ना पड़े

वाराणसी कमिश्नरेट की पुलिस ने आमजन से अपील किया है कि किसी भी अफवाह के चक्कर में न पड़ें। जो भी अफवाह फैलाए, उसकी सूचना तत्काल पुलिस को दें। सोशल मीडिया पर भ्रामक सूचनाएं न साझा करें। सोशल मीडिया के सभी प्लेटफॉर्म की निगरानी की जा रही है। सभी थानों के डिजिटल वॉलंटियर्स को सोशल मीडिया पर साझा होने वाली सूचनाओं के संबंध में सतर्क रह कर ध्यान देने को कहा गया।

Updated On
बनारसी नारद

बनारसी नारद

Next Story